aadipurush mamle me makers ko court ki fatkar :-

5/5 - (62 votes)

आदिपुरुष aadipurush के मेकर्स को हाईकोर्ट की फटकार:कहा- आने वाली पीढ़ियों को क्या सिखाना चाहते हैं; रामायण-कुरान जैसे धार्मिक ग्रंथों को तो बख्शिए

फिल्म आदिपुरुष aadipurush पर रोक की मांग वाली याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सोमवार को सुनवाई हुई। वकील कुलदीप तिवारी की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने सेंसर बोर्ड और फिल्म के निर्माता-निर्देशक को फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा- रामायण-कुरान, गुरु ग्रन्थ साहिब और गीता जैसे पवित्र ग्रंथों को तो बख्श दीजिए। बाकी जो करते हैं वो तो कर ही रहे हैं।

लखनऊ बेंच में सेंसर बोर्ड की तरफ से वकील अश्विनी सिंह पेश हुए। कोर्ट ने पूछा- क्या करता रहता है सेंसर बोर्ड? सिनेमा समाज का दर्पण होता है। आने वाली पीढ़ियों को क्या सिखाना चाहते हो? क्या सेंसर बोर्ड अपनी जिम्मेदारियों को नहीं समझता है? अब मामले की अगली सुनवाई मंगलवार 27 aaj होगी।

फिल्म aadipurush को बैन करने के लिए दायर की गई याचिका


याचिका दायर करने वाले वकील कुलदीप तिवारी ने बताया कि सुनवाई के दौरान फिल्म aadipurush के निर्माता-निर्देशक समेत सेंसर बोर्ड को भी फटकार लगी है।

याचिकाकर्ता ने बताया- 2 अक्टूबर 2022 को फिल्म का टीजर रिलीज हुआ था। जिसमें कई आपत्तिजनक तथ्य का पता चला। इस पर 17 अक्टूबर को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में टीजर और फिल्म दोनों पर बैन लगाने के लिए याचिका डाली थी।

याचिकाकर्ता ने बताया- चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस ब्रिज राज सिंह ने 10 फरवरी 2023 को सेंसर बोर्ड को नोटिस जारी करने का आदेश दिया था। नोटिस मिलने के बाद भी सेंसर बोर्ड ने कोर्ट की अवमानना की और कोई जवाब नहीं दिया। फिल्म मेकर्स ने अपनी रिलीज डेट 6 महीने के लिए यह कहकर टाल दिया कि हम सुधार करेंगे। फिल्म आने पर पता चला कि श्रीराम कथा को ही बदल दिया है

क्या हैं फिल्म aadipurush के आपत्तिजनक डायलॉग्स और सीन


रावण का चमगादड़ को मांस खिलाए जाने, काले रंग की लंका, चमगादड़ को रावण का वाहन बताने, सुषेन वैद्य की जगह विभीषण की पत्नी को लक्ष्मण जी को संजीवनी देते हुए दिखाना, आपत्तिजनक डायलॉग्स व अन्य सभी तथ्यों को कोर्ट में रखा गया।

जानें कौन-कौन से पॉइंट हैं याचिका में

1 ) फिल्म aadipurush का टीजर बिना सेंसर बोर्ड के सर्टिफिकेट के रिलीज किया गया। जो कि सिनेमैटोग्राफी एक्ट 1952 के सेक्शन 5A/5B का उल्लंघन है। सेंसर बोर्ड ने इसका संज्ञान क्यों नहीं लिया? सेंसर बोर्ड बना किस लिए है?


2) फिल्म aadipurush कहानी और डायलॉग लिखने वाले मनोज मुंतशिर को केस में पार्टी नंबर 15 बनाया जाए। (याचिका में अक्टूबर में फिल्म के निर्माता, निर्देशक, कलाकार, केंद्र सरकार, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय सहित कुल 14 लोगों को पार्टी बनाया गया था।)


3) फिल्म aadipurush मेकर्स ने टीजर के रिलीज के बाद आम जनमानस के विरोध के बावजूद भी जानबूझकर धार्मिक आस्था का मजाक उड़ाते हुए फिल्म रिलीज किया। सड़क छाप भाषा का प्रयोग किया गया।
फ़िल्म में श्रीराम कथा को पूरी तरह से बदल दिया गया है। धर्म का मजाक बनाया गया है।
कॉस्ट्यूम से लेकर डायलॉग तक और कहानी का कंटेंट सभी कुछ आपत्तिजनक है, सनातन आस्था का जानबूझकर अपमान किया जा रहा है।

करोड़ों भक्तों और उनकी आस्था व भारतीय संस्कृति का अपमान है। हमारे इतिहास का मजाक बनाया जा रहा है।
आने वाली पीढ़ियों को धर्म से भटकाने का मसाला तैयार किया जा रहा है।


फिल्म aadipurush से न सिर्फ टपोरी स्टाइल वाले आपत्तिजनक संवाद को हटाया जाए, बल्कि आपत्तिजनक कंटेंट, दृश्य, कॉस्ट्यूम इत्यादि को भी तत्काल हटाया जाए।


सेंसर बोर्ड को फिल्म को प्रमाणपत्र/NOC न देने के लिए आदेश दिया जाए। जिससे फिल्म पब्लिक प्लेटफॉर्म्स या सोशल मीडिया में सर्कुलेट होने से रोका जा सके।


फिल्मी पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए।


film makers kisi bhi dharam ka mazak udate hue movie na bnay!

Leave a comment