barabanki me lekhpaalo ki manmani,padhe puri khabar:-

4.9/5 - (132 votes)

Barabanki: घरौनी सर्वे में लेखपालों की मनमानी, योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति कहां गई?

बाराबंकी barabanki:योगी आदित्यनाथ जहां जीरो टॉलरेंस की बात करते हैं तो वहीं अफसर इसके उलट काम कर रहे हैं। घरौनी में मनमानी चरम पर है। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में घरौनी सर्वे में लगे लेखपाल ग्रामीणों की पुश्तैनी भूमि को विवादित बता कर घरौनी बनाने से मना कर रहे हैं। सर्वे में घर किसी में और दरवाजा दूसरे व्यक्ति के नाम दर्ज कर लेखपाल नया विवाद खड़ा कर रहे हैं। अपनी पुश्तैनी जमीन बचाने के लिए पीड़ित तहसील से लेकर मुख्यालय तक अफसरों की चौखट के चक्कर लगा रहे हैं। योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति पर राजस्व विभाग के अफसर सवाल खड़ा कर रहे हैं।

barabanki news

केंद्रीय पंचायती राज मंत्रालय की महत्वाकांक्षी योजना संपत्ति अधिकार (घरौनी) बनाने पर राजस्व कर्मियों के मनमाने रवैए से ग्रामीण परेशान हैं। ड्रोन लगा कर लेखपाल सर्वे में ग्रामीणों की जमीन इधर से उधर कर रहे हैं। हैदरगढ़ और सदर नवाबगंज तहसील क्षेत्र में घरौनी सर्वे कार्य में लगे लेखपालों की मनमानी से ग्रामीण परेशान हैं। ग्रामीण जिस जमीन पर अपना घर बनाए हैं, उसको बचाने लिए तहसील से लेकर डीएम दफ्तर तक चक्कर काट रहे हैं। वहीं, तहसील के अधिकारी कार्रवाई का आश्वासन दे कर मामले को ठंडे बस्ते में छोड़ रहे हैं।

विवाद बता कर घरौनी बनाने से इनकार


हैदरगढ़ तहसील क्षेत्र के मोहम्मदपुर गांव में तैनात लेखपाल स्वयंबीर सिंह ने घरौनी सर्वे के दौरान आबादी की भूमि पर बने रामसागर मिश्र के भूखंड को विवादित दर्ज करने की धमकी दे दी। रामसागर मिश्र के अनुसार, भूखंड पर किसी प्रकार का न तो विरोध है और न ही किसी प्रकार का कोई विवाद न्यायालय में विचाराधीन है। रामसागर ने बताया कि हल्का लेखपाल स्वयंबीर सिंह सर्वे के दौरान विवाद बताकर घरौनी नक्शा बनाने से मना कर दिया। पीड़ित ग्रामीण ने लेखपाल के विरुद्ध एसडीएम हैदरगढ़ सुमित महाजन से शिकायत की है।

लेखपाल का कारनामा नक्शे में घर का बंद किया दरवाजा (barabanki news)


सदर नवाबगंज तहसील dist barabanki के मौथरी गांव निवासी राजेश वर्मा ने मंगलवार को बताया कि मेरे गांव में घरौनी बनाने का सर्वे में लेखपाल श्रीकांत यादव ने दूसरे पक्ष के नाम दर्ज कर दिया, जबकि घर से निकलने के लिए एक ही दरवाजा था। शिकायत करने पर एसडीएम से आश्वासन मिला है। सदर नवाबगंज तहसील एसडीएम विजय त्रिवेदी ने बताया कि घरौनी सर्वे काम चल रहा है, जो जल्द पूरा किया जाएगा। घरौनी संबंध में आने वाली शिकायतों को तत्काल संबंधित लेखपाल से निस्तारण करने को निर्देशित किया जाता है।

योगी सरकार जीरो टॉलरेंस नीति पर सवाल- किसान संगठन


भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) जिलाध्यक्ष अनुपम वर्मा ने बताया कि पूरे जिले में घरौनी बनाने के नाम पर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। बंकी ब्लाक के जाटाबरौली गांव में दो सगे भाइयों से घरौनी सर्वे में जमीन चढ़ाने के लिए अलग पैसे ले लिए। किसान संगठन से जुड़े एक भाई रामानंद ने बताया कि पैसे न देने पर मेरा हिस्सा नक्शे में नहीं चढ़ाया गया। किसान नेता अनुपम वर्मा ने कहा कि एसडीएम से शिकायत पर लेखपाल कोई बात नहीं सुनते हैं। अफसरों की मनमानी से योगी सरकार को खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

(barabanki news)

वहीं, हैदरगढ़ एसडीएम सुमित महाजन ने बताया कि आबादी की भूमि पर बने घरों के नक्शा आदि बनाने की प्रक्रिया लेखपालों की ओर से कराई जा रही है। सर्वे का कार्य 90 प्रतिशत कार्य पूरा किया जा चुका है। जल्द ही वितरण का कार्य कराया जाएगा। घरौनी बनाने वाले लेखपाल की शिकायत आने पर जांच कराई जाएगी।


Leave a comment