BARABANKI NEWS [SARYU UPDATE] :-

5/5 - (7 votes)

Barabanki news: सरयू की बाढ़ में बह गया स्कूल, अब गांव में टिन शेड रखकर पढ़ाई कर रहे बच्चे

BARABANKI जिले में सरयू नदी की बाढ़ से प्रभावित गांवों में जनजीवन बेहाल है। स्कूल तक नदी की चपेट में आकर अपना अस्तित्व खो चुके हैं। बाढ़ में समा चुके स्कूल के बच्चों को अब टिन शेड रखकर पढ़ाया जा रहा है।

en.wikipedia.org › wiki › BarabankiBarabanki – Wikipedia

रामनगर तहसील क्षेत्र का खुज्झी गांव इस समय सरयू नदी की बाढ़ की चपेट में है। इस गांव का प्राथमिक विद्यालय नदी की धारा में समा चुका है। पिछले कई दिन से नौनिहालों की पढ़ाई ठप थी। बुधवार को तहसील प्रशासन ने गांव में ही लल्लू प्रसाद के घर सहन में टिन शेड रखवाने के बाद बुधवार सुबह से शिक्षण कार्य शुरू कर दिया है।

सडीएम रामनगर अनुराग सिंह ने बताया कि अस्थाई शिक्षण व्यवस्था शुरू कर दी गई है। बाढ़ से प्रभावित अन्य सभी स्कूलों की निगरानी की जा रही है।


BARABANKI NEWS – 2


फिर उफनाई सरयू, 15 घर बहे, स्कूल नदी में समाया

जमका गांव का वजूद खतरे में, प्रशासन हुआ अलर्ट

en.wikipedia.org › wiki › Barabanki_districtBarabanki district – Wikipedia

BARABANKI UPDATE


BARABANKI सरयू नदी का जलस्तर बुधवार को एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगा। नेपाल के बैराजों से 24 घंटे में करीब तीन लाख 10 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। इससे नदी चेतावनी स्तर से करीब 77 मीटर ऊपर पहुंचते हुए खतरे के निशान से मात्र 23 सेमी दूर रह गई है। जलस्तर प्रतिघंटा एक सेमी की रफ्तार से बढ़ रहा है। घटते बढ़ते जलस्तर के कारण नदी किनारे बसे गांवों में भीषण कटान हो रही है। जमका गांव के 12, खुज्झी व सरसंडा गांव का एक-एक घर नदी में समा गया है। बुधवार शाम एल्गिन ब्रिज पर नदी का जलस्तर 105.846 मीटर दर्ज हुआ जबकि खतरे का निशान 106.070 है।


BARABANKI – सरयू की बाढ़ से रामनगर व सिराैलीगौसपुर के करीब 50 गांव प्रभावित हैं। बीते दो तीन दिनों से जलस्तर खतरे के निशान से नीचे आने के बाद लगातार कम हो रहा था। लेकिन मंगलवार को नेपाल के बैराजों से एक लाख 61 हजार व बुधवार को एक लाख 50 हजार क्यूसके पानी छोड़े जाने से हालात फिर बिगड़ने लगे हैं। बुधवार को पूरा दिन सरयू का जलस्तर बढ़ता रहा। एसडीएम रामनगर अनुराग सिंह ने बताया कि कटान तेज होने के कारण नदी के उस पार बसे जमका गांव के 12 घर नदी में समा गए हैं। जबकि खुज्झी व सरसंडा के एक-एक मकान नदी की चपेट में आए हैं। जमका के लोगों को पहले ही परशुरामपुर गांव में शिफ्ट किया जा चुका है। नदी जमका गांव को निशाने पर लिए है। इस गांव का वजूद खतरे में हैं। खुज्झी गांव के प्राथमिक विद्यालय का नामाेनिशान नहीं बचा है वहीं सरसंडा का पंचायत भवन कभी भी नदी की धारा में भराभरा सकता है। गांव के लल्लू प्रसाद के आवास पर विद्यालय संचालन के लिए टिन शेड तैयार कराया जा रहा है। वहीं, सिरौलीगरैसपुर तहसील क्षेत्र के तेलवारी, सनावा, कहारनपुरवा, टेपरा, बघौलीपुरवा, सरायसुर्जन, बबुरी, नव्वनपुरवा, मझारायपुर, परसवाल, सहित तहसील क्षेत्र के करीब 35 गांव बाढ़ से घिरे हैं।

भोजन बंटना बंद, बरसात से दोहरी मुसीबत BARABANKI


बाढ़ प्रभावित गांवाें में पानी कम होने के बाद लोगों को वापस लौटने की उम्मीद जगी थी। लेकिन अब जलस्तर बढ़ने के साथ दो दिन से हो रही बरसात ने कोढ़ में खाज वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। पानी कम होने के कारण मंगलवार से भोजन के पैकेट बटना बंद हो चुके हैं। ऐसे में खाला बनाने के लिए लकड़ी तक इंतजाम करना चुनौती है। जो लोग तटबंध पर है उनकी झोपड़ी टपक रही है

hi.wikipedia.org › wiki › सरयू_नदीसरयू नदी – विकिपीडिया


READ MORE :-

MY WEBSITE = http://barabankinewstoday.com


Leave a comment