HAR GHAR TIRANGA

5/5 - (12 votes)

बाराबंकी। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत रविवार को हर घर तिरंगा अभियान शुरू होगा। इसको लेकर गांवों में घर-घर तिरंगा पहुंचाने का शनिवार को अभियान चलाया गया।

डीडीओ भूषण कुमार ने बताया कि शासन की ओर से 13 से 15 अगस्त तक हर घर तिरंगा कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए गए थे। इसके लिए अलग-अलग विभागों के सहयोग से 4.36 लाख झंडों का वितरण किया जा रहा है। हर ग्राम पंचायत स्तर पर झंडे बांटे गए। साथ ही लोगों को झंडा फहराने का तरीका व 15 अगस्त के बाद उसे उतारकर सुरक्षित रखने का भी संदेश दिया गया।

वहीं सोमवार को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन शहर स्थित नगर पालिका के टाउन हाल में किया जाएगा, इसमें विभाजन की विभीषिका पर विविध आयोजन होंगे। कार्यक्रम में जिले के सभी जनप्रतिनिधि व अधिकारी भी शामिल होंगे। मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर कलेक्ट्रेट परिसर में झंडारोहण किया जाएगा। फिर डीएम अविनाश कुमार व अन्य अधिकारियों-जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में सीएम योगी आदित्यनाथ का संबोधन सुना जाएगा और स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिजनों को सम्मानित किया जाएगा।

जाने तिरंगा फहराने के बीच अहम नियम अपमान पर हो सकती है जेल

INDEPENDENCE DAY 2023 (HAR GHAR TIRANGA) अगर आप भी अपने घर में तिरंगा लगने और फराने जा रहे हैं तो आपको इससे जुड़े कायदे कानून जान लेने चाहिए इसके अपमान पर आपको जेल भी हो सकती है।

HAR GHAR TIRANGA पिछले साल की तरह इस साल भी सरकार का हर घर तिरंगा HAR GHAR TIRANGA अभियान जारी है सरकार ने देशवासियों से हर घर तिरंगा अभियान में हिस्सा लेने की अपील की गई है पीएम मोदी ने जनता से तिरंगे के साथ अपनी फोटो और वीडियो को हर घर तिरंगा वेबसाइट पर पोस्ट करने के लिए कहा है 13 अगस्त से शुरू या अभियान 15 अगस्त 2023 तक जारी रहेगा जब विविधताओं से भरे देश में अलग-अलग संस्कृति वेशभूषा खान-पान भाषा बोलने वाले लोग एक ही ध्वज तले एक ही राष्ट्रगान गाते हैं तो हमारी एकता व साहस का एहसास होता है अगर आप भी अपने तिरंगा लगने और फहराने जा रहे हैं तो आपको इससे जुड़े कायदे कानून जान लेने चाहिए इसके अपमान पर आपको जेल भी हो सकती है

[HAR GHAR TIRANGA] जाने तिरंगा रखना और उसे फहराने के 20 महत्वपूर्ण नियम —

१. खुले में 24 घंटे तक तिरंगा फहरा सकते हैं जहां भी तिरंगा फहराया जाएगा उसे पूरे सम्मान के साथ फहराए । तिरंगे को पानी में नहीं भिगोना है नहीं किसी भी प्रकार उसे छाती पहचानी है। ध्यान दे तिरंगे में केसरिया पट्टी सबसे ऊपर होनी चाहिए तिरंगा आधा झुका कटा फटा नहीं होना चाहिए इससे विधिवत ही फहराना चाहिए।

२. पहले मशीन से बने और पॉलिएस्टर से बने राष्ट्रीय ध्वज को फहराने की अनुमति नहीं थी लेकिन अब हाथ या मशीन से बना हुआ कपास/ पॉलीएस्टर/ऊन/ रेशमी खादी से बना तिरंगा भी अपने घर पर फहराया जा सकता है।

३. सरकार ने तिरंगे को किसी भी वक्त फहराने की अनुमति दे दी है । अब इसे दिन रात 24 घंटे फहराया जा सकता है। ( इससे पेट लेंगे को केवल सूर्योदय से सूर्यास्त पर आने की अनुमति थी)

४. झंडे का आकार आयताकार होना चाहिए।

५. इसकी लंबाई और चौड़ाई का अनुपात 3:2 का होना चाहिए।

६. अशोक चक्र का कोई मापता नहीं है सिर्फ इसमें 24 तिलिया होनी चाहिए।

७. तिरंगा कभी भी कटा फटा कुचला, मैला नहीं होना चाहिए।

८. तिरंगे को किसी भी प्रकार की यूनिफॉर्म में प्रयोग में नहीं लाया जा सकता है।

९. किसी भी स्थिति में तिरंगा जमीन को नहीं छूना चाहिए।

१०. किसी अन्य झंडे को राष्ट्रीय ध्वज से ऊंचा नहीं रखना है या लगा सकते जब किसी अन्य झंडे के साथ फहरा रहे हो तो यह ध्यान रखना चाहिए कि तिरंगे की ऊंचाई सबसे ऊपर हो।

HAR GHAR TIRANGA

११. झंडे के किसी भाग को जलाना नुकसान पहुंचाने के अलावा मौके या शाब्दिक तौर पर उसका अपमान करने पर 3 साल तक की जेल और जुर्माना हो सकता है।

१२. झंडे पर कुछ भी बनाना या लिखना गैरकानूनी है।

१३. झंडा अगर फट जाए या फिर मेला हो जाए तो उसे एकांत में मर्यादित तरीके से नष्ट करना चाहिए।

१४. तिरंगे को अपने पास पूरे सम्मान के साथ लगाकर रखना है ना फेंकना है ना क्षति पहुंचाने है।

१५. तिरंगा समय के साथ हवा में या किसी अन्य कारण धंधा हो जाए या फट जाए तो ऐसी स्थिति में निस्तारण बहुत ही सावधानी से करना है।

१६. क्या झंडा गाड़ियों में लगाया जा सकता है?
झंडा किसी भी गाड़ी में नहीं लगाया जा सकता है।

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ,कैबिनेट मंत्री, राज्यपाल ,उपराज्यपाल, राज्य मंत्री, लोकसभा स्पीकर, राज्यसभा के उपसभापति ,भारत के मुख्य न्यायाधीश ,सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश, हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश, हाई कोर्ट के जज की गाड़ियों पर लगाया जा सकता है।

१७. झंडा कौन फहरा सकता है?
यह किसी के लिए भी प्रतिबंधित नहीं है।

१८. राष्ट्रीय ध्वज का प्रयोग किसी भी पोशाके वर्दी एक किसी पहना रूप में नहीं किया जाएगा।

१९. इसका इस्तेमाल किसी वस्तु या किसी को भी लपेटने के लिए नहीं किया जाएगा।

२०. झंडे को फहराते हुए केसरिया रंग हमेशा ऊपर रखना चाहिए वर्टिकली फहराना पर केसरिया रंग झंडे के संदर्भ में दाहिनी तरफ होनी चाहिए।

तिरंगे में मौजूद केसरिया रंग साहस और बलिदान का प्रतीक माना जाता है सफेद रंग शांति और सच्चाई का प्रतीक माना जाता है हरा रंग संपन्नता का प्रतीक होता है अशोक चक्र धर्म चक्र का प्रतीक है।

निस्तारण के 2 तरीके

एक दफन करना और दूसरा जलना
बहुत ही साफ स्थल पर जमीन में दफन करना होगा। इसके बाद उसे स्थान पर 2 मिनट तक मौन खड़े रहना होगा।


READ MORE

view more news

click= http://barabankinewstoday.com


Leave a comment