SEEMA HAIDAR NEWS :-

5/5 - (37 votes)

SEEMA सीमा कहती है कि अब वह पूछताछ से थक चुकी है और जो सच है वही बताया है।

SEEMA HAIDAR (सीमा हैदर) और सचिन अभी पुलिस निगरानी में ही रहेंगे

पाकिस्तानी महिला सीमा हैदर और सचिन अभी पुलिस निगरानी में ही रहेंगे। सीमा कहती है कि अब वह पूछताछ से थक चुकी है और जो सच है वही बताया है। दरअसल, सीमा हैदर ने जिस आधार कार्ड से पासपोर्ट बनवाया था, उसमें तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इसके बाद जांच एजेंसियों का संदेह और गहरा गया।

पाकिस्तान से नेपाल के रास्ते रबूपुरा तक पहुंची सीमा हैदर और सचिन को लेकर जांच एजेंसियां साक्ष्य जुटा रही हैं। इसलिए जब तक पूरी जांच पड़ताल नहीं होती है, तब तक दोनों पुलिस की निगरानी में ही रहेंगे। उन्हें किसी और से नहीं मिलने दिया जा रहा है।

तीन दिन से पुलिस ने उनको मीडिया या बाहरी लोगों से नहीं मिलने दिया है। जांच एजेंसियों को कुछ और पूछताछ करनी है, इसलिए लगातार पुलिस और एजेंसी के अधिकारी रबूपुरा में डेरा डाले हुए हैं।

जगह बदल-बदल कर की जा रही पूछताछ


सचिन के घर पर पुलिस बल तैनात है और जांच के दौरान अन्य लोग बाधा न पहुंचा पाए, इसके लिए अधिकारी जगह बदलकर सीमा-सचिन से पूछताछ करते हैं।
फर्जी आधार कार्ड बनाने के आरोप में बुलंदशहर के दो सगे भाई गिरफ्तार
कमिश्नरेट पुलिस ने सीमा हैदर SEEMA HAIDAR को भारत में प्रवेश कराने के लिए फर्जी आधार कार्ड बनाने के आरोप में दो सगे भाईयों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। हालांकि पुलिस ने उन्हें पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। लेकिन आधिकारिक पुष्टि बुधवार रात की है।

गिरफ्तार आरोपी दो सगे भाइयों की पहचान पवन और पुष्पेंद्र कुमार के रूप में की गई है। उनके कब्जे से 15 फर्जी आधार कार्ड, तीन लैपटॉप, तीन प्रिन्टर और अन्य सामान जब्त किया है।दरअसल, पाकिस्तान से सीमा हैदर नेपाल के रास्ते जिस आधार कार्ड दिखाकर भारत में घुसी थी। उनको फर्जी बताया गया था। जांच में इस बात की पुष्टि भी हो गई है।

चूंकि बुलंदशहर के अहमदगढ़ थाना क्षेत्र के कनैनी गांव निवासी दोनों भाई जनसुविधा केंद्र चलाते हैं। वहीं पर सचिन के कहने पर आधार कार्ड बनाए गए थे। अमर उजाला ने मंगलवार को ही दोनों की गिरफ्तारी व जेल भेजने की खबर प्रकाशित कर दी थी। दादरी पुलिस ने आरोपी दोनों भाइयों को आरवी नार्थलैंड के पास जीटी रोड से गिरफ्तार करने का दावा किया है।

पाकिस्तान लौटा गुलाम हैदर सरकार से लगाएगा गुहार


(SEEMA )सीमा के पूर्व पति गुलाम हैदर का सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में कहा कि भाइयों पाकिस्तान लौट रहा हूं, मेरी मदद करना। उम्मीद जताई जा रही है कि गुलाम हैदर पाकिस्तान सरकार से सीमा और अपने चार बच्चों को वापस बुलाने के लिए गुहार लगाएगा। वह भारत सरकार से भी इस तरह की गुहार लगा चुका है।

नेपाल के रास्ते पाकिस्तान से भारत आ गई थी सीमा


पाकिस्तान के कराची निवासी SEEMA HAIDAR सीमा हैदर और रबूपुरा के सचिन मीणा के बीच पबजी गेम खेलने के दौरान जान-पहचान हुई थी। वीडियो कॉलिंग के जरिये नजदीकियां बढ़ने के बाद सीमा 13 मई नेपाल के रास्ते पाकिस्तान से भारत आ गई थी।

चार बच्चों संग रबूपुरा पहुंची SEEMA HAIDAR सीमा आंबेडकर नगर में किराये पर मकान लेकर सचिन के साथ रहने लगी। मामले की भनक पुलिस को लगते ही सीमा चार बच्चों और सचिन के साथ फरार हो गई। पुलिस टीम ने सभी को हरियाणा के बल्लभगढ़ से पकड़ा था।


NEWS 2


BARABANKI NEWS UPDATE

बाराबंकी/ कोटवाधाम। पिछले करीब 35 दिन से घट-बढ़ रहा सरयू नदी का जलस्तर मंगलवार रात खतरे के निशान को पार कर गया। बुधवार को नदी खतरे के निशान 106.070 मीटर को पार कर 106.096 मीटर पर बह रही थी। नदी किनारे नीचे स्थानों में बसे दो दर्जन गांवों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। तीन गांवों की ओर नदी का पानी बढ़ रहा है। ये देखते हुए ग्रामीणों ने पलायन शुरु कर दिया। प्रशासन ने 10 बाढ़ चाैकियाें व 18 राहत केंद्रों को अलर्ट कर दिया है। वहीं, नदी के उस पार बसे एक दर्जन से अधिक गांवों में खलबली मची है क्योंकि आवागमन बंद है।


सरयू की बाढ़ से रामसनेहीघाट, सिरौलीगौसपुर व रामनगर के 100 से अधिक गांव प्रभावित होते हैं। गांव के लोग बांध पर बसर करते हैं। पिछले कई दिनों से नदी चेतावनी बिंदु के ऊपर बह रही थी। मंगलवार रात करीब 11 बजे से नदी का जलस्तर बढ़ने लगा। बुधवार सुबह इस सीजन में पहली बार नदी एल्गिन ब्रिज पर खतरे के निशान के ऊपर बहती दिखी तो गांवों में खलबली मच गई। बुधवार दोपहर से नदी का पानी इटहुवा पूर्व, रेता व नदी के उस पार बसे नौव्वनपुरवा गांव की ओर बढ़ता दिखा

इसी के साथ तेलवारी, गोबरहा, भैरवकोल, सरायसुर्जन, टेपरा, बघौलीपुरवा, सनावा, कहारनपुरवा, भयकपुरवा, विहड़, सिरौलगुंग, कोठीडीहा, बबुरी, परसा, मनीरामपुरवा, सरदहा व नदी के उस पार बसे परसवाल, मझारायपुर बेहटा गांव पानी से घिर रहे हैं। इन गांवों के लोग सुररित स्थानों पर जाने के लिए पलायन कर रहे हैं। रामनगर के सरसंडा, हेतमापुर गांव भी बाढ़ के खतरे के मुहाने पर है। उस पार बसे जमका गांव में नदी कई बीघा जमीन लील चुकी है।
एडीएम अरुण सिंह ने बताया कि सभी गांव सुरक्षित है। बाढ़ चौकियों व राहत केंद्रों पर कर्मचारियों की ड्यूटी लगा दी गई है। कंट्रोल रुम से निगरानी की जा रही है।

लगी बाढ़ राहत चौपाल, पहुंची डॉक्टरों की टीम


टिकैतनगर/कोटवाधाम (बाराबंकी)। जलस्तर बढ़ने के बाद प्रशासन हरकत में आ गया है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में समस्याओं के समाधान व बचाव के लिए रामसनेहीघाट तहसील क्षेत्र के बसंतपुर पत्रा गांव में बाढ़ राहत चौपाल का आयोजन किया गया। एसडीएम रामसनेहीघाट ने नदी किनारे बसे इस गांव का पंचायत भवन में चौपाल आयोजित कर सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजना का सत्यापन किया। उन्होंनेे बच्चों, महिलाओं, बीमार व बुज़ुर्ग लोगों के रेस्क्यू में सहयोग करने की अपील की।
वहीं, सिरौलीगौसपुर के एसडीएम विश्वमित्र सिंह ने तेलवारी गांव और अलीनगर रानीमऊ तटबंध का निरीक्षण किया। कोठरीगौरिया गांव में नायब तहसीलदार दिनेश कुमार पांडेय ने चौपाल भी लगाई। उधर, सिरौलीगौसपुर सीएचसी के अधीक्षक डॉ. संतोष कुमार सिंह ने बाढ़ प्रभावित टेपरा, बघौलीपुरवा, सनावा, कहारनपुरवा गांव का निरीक्षण किया।


Leave a comment